Followers

Wednesday, 28 September 2011


18 comments:

  1. aadarsh vichaaron se sjee sanvree sundar prastuti ,satya hai dessh kaa yuvaa dashaa par aakroshit to avashy hai parantu parivsh ke chakravyooh men fanse parinde kee tarah paridhi tod naheen paataa ,aur yahi traasdee desh kaa bhavishy ban kar rah gayee hai . prerak lekh ke liye badhaayee .

    ReplyDelete
  2. खूबसूरत प्रस्तुति ||
    http://dcgpthravikar.blogspot.com/2011/09/blog-post_26.html

    ReplyDelete
  3. sahi aalekh, kehte hai 100% koi nahi hota kisi bhi vyakti mei kuch burai hai to kuch achai bhi hoti hai par humare desh ke netao ke to kehne hi kya sab 100% corrupt hai, isliye yuva peedhi une pasand nahi karti

    ReplyDelete
  4. आपने सही रूप में युवा शक्ति को कसोटी पर कसने की सार्थक कोशिश की है .आज का युवा देश भक्ति की
    संवेदना मन में रखता है परन्तु विरासत में जो कुछ हमारे नेता छोड़ कर जा रहे हैं उसे देख हतास है .युवा को
    नेतृत्व के लिए तैयार करने की जरुरत है तभी देश का सुन्दर निर्माण होगा ,युवा को मनमोह क भारत निर्माण से बचना होगा

    ReplyDelete
  5. प्रिय श्री शुक्ल जी बहुत सुन्दर लेख आप का काश ये युवाओं की संख्या ७० प्रतिशत से भी बढे अब अन्ना जी ईमानदार नुव्युव्कों के लिए प्रचार करने को तैयार राजनीति में /...

    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  6. A very much required post.

    ReplyDelete
  7. Sartahk post ke liye aabhar........

    ReplyDelete
  8. Virendra ji,
    Ravikar ji,
    Geeta ji
    बहुत-बहुत आभार आपकी सकारात्मक प्रतिक्रियाओं के लिए.

    ReplyDelete
  9. Chandrabhooshan misra ji,
    G. P. Bhutra ji,
    Surendra Shukla ji
    आपके स्नेह और समर्थन का आभारी हूँ.

    ReplyDelete
  10. ZEAL JI,
    Amarendra ji
    बहुत-बहुत आभार
    आपके स्नेह और समर्थन का .

    ReplyDelete
  11. I’m impressed, I must say. Really rarely do I encounter a blog that’s both educative and entertaining, and let me tell you, you have hit the nail on the head. Your idea is outstanding; the issue is something that not enough people are speaking intelligently about.

    India is a land of many festivals, known global for its traditions, rituals, fairs and festivals. A few snaps dont belong to India, there's much more to India than this...!!!.
    Visit for India

    ReplyDelete
  12. यह आलेख सभी को पढ़ना चाहिए. बहुत सुंदर और सही विचार. धन्यबाद.

    ReplyDelete
  13. आप सब को विजयदशमी पर्व शुभ एवं मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर विचार

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर प्रस्तुति !
    बस इतना ही कहना चाहूँगी -
    युवा देश की आन बान शान है |
    इनसे ही देश बनता महान है ||

    ReplyDelete
  16. सुन्दर प्रस्तुति
    बधाई

    ReplyDelete